June 20, 2024
सेहरी की नीयत की दुआ क्या है | Sehri Ki Dua in Hindi

सेहरी की नीयत की दुआ क्या है | Sehri Ki Dua in Hindi

Sehri Ki Dua :- अस्सलाम वालेकुम दोस्तों कैसे हैं आप लोग उम्मीद है आप बिल्कुल ठीक होंगे आपका स्वागत है हमारे इस लेख में आज के इस लेख के मदद से हम सेहरी की दुआ के बारे में जानकारी प्राप्त करने वाले हैं।

दोस्तों आप लोग रमजान के पाक महीने में रोजा तो अवश्य रखते होंगे मगर कई सारे ऐसे लोग हैं जो सेहरी तो करते हैं मगर सेहरी के दुआ को नहीं जानते हैं या फिर सेहरी के दुआ को नहीं पढ़ पाते हैं तो इस टॉपिक में हमने शहरी के दुआ को स्टेप बाय स्टेप करके लिखा है और उससे जुड़ी हर एक बात बताने की कोशिश की है।

तो अगर आप सेहरी की दुआ के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारे इस लेख के साथ अंत तक बने रहे तो चलिए शुरू करते हैं इस लेख को बिना देरी किए हुए।

KEY POINTS

Sehri Ki Dua In Arabi

दोस्तों अगर आपको हिंदी नहीं आती या फिर आप इंग्लिश भाषा को अच्छे से नहीं समझ पाते हैं तो हमने आपके लिए सेहरी की दुआ को इस टॉपिक में अरबी में लिखा है, तो आप इसे ध्यान से पढ़ें और समझें और रमजान के पाक महीने में रोजा रखने पर हर एक रोजा की नियत को पूरा करने के लिए और सेहरी करने के बाद इस दुआ को अवश्य पढ़ें।

وَبِصَوْمِ غَدٍ نَّوَيْتُ مِنْ شَهْرِ رَمَضَانَ

तर्जुमा

اورمیں نے ماہ رمضان کے کل کے روزے کی نیت کی

Sehri Ki Dua In english

दोस्तों अगर आपको अरबी या फिर उर्दू नहीं आती या फिर आप हिंदी भाषा को अच्छे से नहीं समझ पाते हैं। और इन भाषाओं में लिखी हुई दुवा को पढ़ने में असमर्थ है। तो हमने आपके लिए सेहरी की दुआ को इस टॉपिक में English में लिखा है, तो आप इसे ध्यान से पढ़ें और समझें और रमजान के पाक महीने में रोजा रखने पर हर एक रोजा की नियत को पूरा करने के लिए और सेहरी करने के बाद इस दुआ को अवश्य पढ़ें।

Sehri ki Dua in English

Wa Bisawmi Ghadinn Nawaiytu Min Shahri Ramadan

Sehri ki Dua with English Meaning

I Intend to keep the fast for month of Ramadan

सेहरी की दुआ हिंदी में

दोस्तों अगर आपको अरबी या फिर उर्दू नहीं आती या फिर आप इंग्लिश भाषा को अच्छे से नहीं समझ पाते हैं तो हमने आपके लिए सेहरी की दुआ को इस टॉपिक में हिंदी में लिखा है, तो आप इसे ध्यान से पढ़ें और समझें और रमजान के पाक महीने में रोजा रखने पर हर एक रोजा की नियत को पूरा करने के लिए और सेहरी करने के बाद इस दुआ को अवश्य पढ़ें।

सेहरी की दुआ

” व बिसवमी गदिन्न नवैयतु मिन शहरी रमज़ान “

सेहरी की दुआ का तर्जुमा

मैं रमज़ान के महीने में इस रोज़े की नीयत करता हु।

सेहरी को करने का वक़्त क्या है ?

दोस्तों हमने ऊपर के टॉपिक में जाना कि सेहरी की दुआ क्या होती है अब हम इस टॉपिक के माध्यम से जानेंगे कि आखिर रमजान में सेहरी करने की वक्त क्या होती है तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए ।

दोस्तों हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शहरी करने का सही वक्त फजर की नमाज से पहले होता है यानी कि हमें फजर की नमाज पढ़ने से पहले शहरी कर लेना चाहिए। और शहरी करने के बाद रोजा की नियत को भी कर लेना चाहिए यानी कि रोजा रखने के लिए जो दुआ हम पढ़ते हैं उसे पढ़ लेना चाहिए।

सेहरी खाये बगैर रोज़ा रखना कैसा है ?

दोस्तों हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सेहरी खाए बिना भी आप रोजा रख सकते हैं मगर जान बूझकर शहरी को ना खाना यह अच्छा नहीं माना जाता है। क्युकी हमारे प्यारे नबी मोहम्मद स ० ल० ने सेहरी करने को कहते थे। अगर आप किसी कारणवश शहरी को नहीं खा सकते हैं तो अब उस परिस्थिति में आप सेहरी किए बिना भी रोजा रख सकते हैं इससे ज्यादा कोई फर्क नहीं पड़ता है।

निष्कर्ष

तो दोस्तों उम्मीद करता हूं कि आपको मेरा यह लेख बेहद पसंद आया होगा और आप इस लेख के मदद से सेहरी की दुआ को जान चुके होंगे और इसे समझ भी चुके होंगे । अगर आपको इस लेख में कहीं भी किसी भी प्रकार का दिक्कत नजर आता है तो आप हमारे कमेंट बॉक्स में जरूर मैसेज करें।

हम आपके बातों पर गौर करेंगे और उस गलती को सुधारने की कोशिश करेंगे और आप कमेंट में यह भी बताएं कि आपको यह लेख कैसा लगा और आपको सेहरी की दुआ समझ मे आया कि नही, तो चलिए इसी के साथ अब हम इस लेख को अल्पविराम देते हैं।


Also Read :-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *