September 28, 2022
khana khane ke baad ki dua

Khana Khane Ke Baad Ki Dua – खाना खाने के बाद की दुआ

Khana Khane Ke Baad Ki Dua :- इस्लाम धर्म में लगभग सभी लोग किसी भी कार्य को करने से पहले एवं कार्य को करने के बाद दुआ पढ़ते हैं। क्योंकि वह ऐसा मानते हैं, कि किसी कार्य को करते समय दुआ पढ़ने से उस कार्य में बरकत होती है।

अक्सर मुस्लिम खाना खाने से पहले और Khana Khane Ke Baad Ki Dua पढ़ते हैं। क्योंकि उनका मानना है, कि इससे हमारे खाने में बरकत होगी।

कई लोगों को खाना खाने से पहले की तो दुआ याद होती है, परंतु कई बार वे खाना खाने के बाद की दुआ भूल जाते हैं।

इसलिए आज के इस लेख में हम आपको मुस्लिम धर्म की Khana Khane Ke Baad Ki Dua की जानकारी देंगे। यदि आप भी जाना चाहते हैं कि खाना खाने से पहले एवं बाद की दुआ के क्या फायदे हैं तो इसलिए को पूरा जरूर पढ़िए।


खाना खाने की दुआ क्या होती है ?

लगभग सभी इस्लाम धर्म को मानने वाले लोग खाना खाने की दुआ पढ़ते हैं। क्योंकि खाना खाने की दुआ पढ़ने से कई फायदे होते हैं। इन फायदों को पाने के लिए हम दो दुआ पढ़ते हैं।

  1. खाना खाने से पहले की दुआ
  2. खाना खाने के बाद की दुआ

चलिए हम इन दोनों दुआओं को अलग अलग समझते हैं और इनके फायदों के बारे में जानते हैं।


1. खाना खाने से पहले की दुआ

खाना खाने से पहले की दुआ पढ़ने से भी पहले कुछ अन्य कार्य हैं जो करने आवश्यक हैं। खाने पर बैठने से पहले हाथों को अच्छी तरह से धो लें, ताकि हाथों की गंदगी निकल जाए।

इसके अलावा खाने में ऐसी चीज चुने जिससे हमारे जिस्म को ताकत पहुंचे ताकि हम अल्लाह के आदेशों का पालन कर सकें।

अब खाना शुरू करें और खाना खाने से पहले की दुआ पढ़े। खाना खाने से पहले की दुआ है – “बिस्मिल्लाह हिर्रहमा निर्रहीम।जिसका अर्थ हैअल्लाह के नाम से और उसके कर्म से मैं खाना शुरू करता हूं।

अल्लाह कहते हैं कि यदि कोई खाना खाने से पहले दुआ पढ़ना भूल जाता है तो वह खाना खाने के बीच में भी दुआ पढ़ सकता है।


2. खाना खाने के बाद की दुआ ( Khana Khane Ke Baad Ki Dua )

खाना खाने के बाद की दुआ पढ़ने से पहले ध्यान रखें कि आप अपना सारा खाना खत्म कर ले। और उसके बाद ही खाना खाने की दुआ पढ़ें।

खाना खाने के बाद की दुआ हैशुक्र अल्हम्दुलिल्लाह

खाना खाने के बाद की दूसरी दुआ है – “अल्हम्दुलिल्लाहिल लज़ि अतआमाना, काना, अलना मिनअल मुस्लिमीन

आप खाना खाने के बाद इन दोनों दुआओं में से कोई भी दुआ पढ़ सकते हैं। इसका अर्थ है कि सब खूबियों अल्लाह के लिए है जिसने हमें खिलाया पिलाया और मुसलमान बनाया।


खाना खाने के पहले एवं बाद की दुआ पढ़ने के फायदे

खाना खाने से पहले एवं बाद की दुआ पढ़ने के कई फायदे हैं जो कि इस प्रकार हैं :-

  • खाना खाने की दुआ पढ़ने से हमारे खाने मैं बरकत होती है और शिफा भी आती है।
  • दुआ पढ़ने से अल्लाह हमारे खाने को कुबूल करते हैं और हमें बरकत भेजते हैं।
  • ऐसा माना जाता है, कि यदि हम खाना खाने से पहले एवं बाद की दुआ नहीं पढ़ते हैं तो वह खाना शैतान का हो जाता है। इसलिए खाना खाने की दुआ जरूर पढ़नी चाहिए ताकि हमारे खाने पर से शैतान की नजर हट जाए और वह खाना हमारे लिए सेहतमंद हो।
  • खाना खाने की दुआ पढ़ने से हमारा खाना हमारे शरीर को लगता है और हमें बीमारियों से भी बचाता है।
  • खाना खाने की दुआ पढ़ने से हमारे मन में खाने के प्रति कोई भी बुरा विचार नहीं आता और हमें खाना स्वादिष्ट लगता है।

खाना खाने से पहले की दुआ भूल जाए तो क्या करें ?

ऐसा कई बार हो जाता है कि जल्दी में हम खाना खाने से पहले की दुआ पढ़ना भूल जाते हैं। इसलिए अल्लाह कहते हैं कि यदि खाना खाने से पहले दुआ पढ़ना भूल जाए और आपको खाना खाने के बीच में दुआ पढ़ना याद आए तो आप खाना खाने के बीच में भी वह दुआ पढ़ सकते हैं।

क्या खाना खाने के बीच में दुआ पढ़ना चाहते हैं तो वह यह दुआ पढ़ सकता है। खाना खाने के बीच की दुआ है – “बिस्मिल्लाही अव्वलहू आखिरहु

इसका अर्थ है किमैंने खाने के अव्वल आखरी में अल्लाह का नाम लिया

यदि आपको खाने के बीच में दुआ पढ़ना याद आता है तो आप ऊपर लिखी दुआ को पढ़ सकते हैं। इससे भी अल्लाह आपकी दुआ कबूल करते हैं और आपको बरकत देते करते हैं।


For More Info Watch This :


निष्कर्ष :

आज के इस लेख में हमने आपको बताया, कि khana khane ke baad ki dua क्या है ?

उम्मीद है, कि इस लेख के माध्यम से आपको खाना खाने की दुआ के बारे में जानकारी मिल पाई होगी। यदि आप इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट कर के पूछ सकते हैं।


FAQ’S :

प्रश्न 1खाने की दुआ क्या है ?

उत्तर - खाने की 2 दुआएं होती हैं, जो कि इस लेख में हमने विस्तार पूर्वक बताई है।

प्रश्न 2खाना खाने के बाद कौन सी दुआ पढ़े ?

उत्तर - खाना खाने के बाद शुक्र अल्हम्दुलिल्लाह दुआ पढ़ते हैं।

प्रश्न 3क्या मैं बिस्तर में दुआ कर सकती हूं ?

उत्तर - हां, बिस्तर में दुआ करने से अल्लाह आपको अच्छी नींद देते हैं।

Read Also :-

Leave a Reply

Your email address will not be published.