September 28, 2022
Dua e Masura In Hindi

Dua e Masura In Hindi – दुआ ए मासुरा हिंदी में

Dua e Masura In Hindi :- दोस्तों आप तो जानते ही हैं, कि नमाज पढ़ते समय हम दुआ ए मासुरा को हर नमाज में शामिल करते हैं।

Dua e Masura ही ऐसी दुआ है, जिसे हम नमाज के बीच में पड़ सकते हैं। और इसी के कारण हमारी नमाज भी पूरी होती हमारी नमाज भी पूरी होती है।

कई लोग कभी-कभी दुआ ए मासुरा को नमाज के बीच में पढ़ना भूल जाते हैं, क्योंकि उन्हें दुआ ए मासुरा याद नहीं रहती है.

इसलिए आज के इस लेख में हम आपको Dua e Masura की जानकारी देंगे, साथ ही इसके फायदों पर भी चर्चा करेंगे। आज के इस लेख में हम आपके लिए दुआ ए मासुरा की तर्जुमा भी लेकर आए हैं।


दुआ मासुरा क्या है ? | Dua e Masura In Hindi

दुआ ए मासुरा एक दुआ है, जो नमाज पूरी होने से पहले पढ़ी जाती है। यानी सबसे पहले जब हम अत्तहियात और दुरूद इब्राहिम पढ़ लेते हैं तो उसके बाद दुआ ए मासुरा पढ़ते हैं।

Dua e masura नमाज में सलाम फेरने से पहले पढ़ा जाता है। दुआ ए मसूरा पढ़ते समय हम अल्लाह से अपने गुनाहों की माफी मांगते हैं और हमारे ऊपर अल्लाह को दया करने की ओर से देते हैं।


दुआ मसूरा कब पढ़ा जाता है ?

दुआ माशूरा नमाज में सलाम फेरने से पहले पढ़ा जाता है। जब हम कोई भी नमाज पढ़ते हैं जैसे फर्ज नमाज़ पढ़ते हैं या सुन्नत नमाज़ पढ़ते हैं तो 2 रकात पढ़ने के बाद ही बैठते हैं।

फिर हम अत्तहियात पढ़ते हैं और दुरूद इब्राहिम पढ़ते हैं। दुरूद इब्राहिम पढ़ने के बाद ही दुआ ए मासुरा पढ़ा जाता है और फिर सलाम फ़ेरा जाता है।


दुआ मासुरा कैसे पढ़ा जाता है ?

जिस तरह से हम अत्तहियात और दुरूद इब्राहिम करते हैं उसी प्रकार दुआ ए मासुरा भी पढ़ा जाता है। इसे पढ़ने के लिए किसी अलग प्रकार का नियम नहीं बनाया गया है, इसलिए आप 2 रकात पढ़ने के बाद जब बैठते हैं तो आप दुआ ए मासुरा पढ़ सकते हैं।


दुआ मसूरा भूल जाए तो क्या करें ?

कुरान या अन्य किसी जगहों पर भी यह नहीं लिखा गया है कि दुआ ए मासुरा भूल जाए तो आपकी दुआ पूरी नहीं होगी। या आप की नमाज पूरी नहीं होगी।

इसलिए यदि आप दुआ ए मासुरा भूल जाते हैं, तो उसकी जगह पर कोई और दुआ भी पढ़ सकते हैं। इसके अलावा यदि आपको जल्दी है तो आप दुआ ए मासुरा नहीं भी पढ़ेंगे तो भी कोई बात नहीं है।

लेकिन कोशिश यही करें, कि नमाज पढ़ते समय दुआ ए मासुरा जरूर पढ़ें क्योंकि इससे हम पढ़ते समय अल्लाह से अपने गुनाहों की माफी मांगते हैं।


दुआ मासुरा की दुआ

हम आपको यहां पर 3 भाषाओं में अरबी हिंदी और इंग्लिश भाषा में दुआ ए मासुरा बताएंगे और साथ ही उसका तजुर्बा भी बताएंगे, क्योंकि यदि हम किसी भी दुआ को उसके तजुर्मा को याद रखते हुए पढ़ते हैं तो इससे हमारी दुआ अल्लाह तक पहुंचती है।


दुआ मासुरा हिंदी में

अल्लाहुम्मा ‘इन्नी ज़लमतु नफ़सी ज़ुल्मन कसीरन, वला यग-फ़िरुज़-ज़ुनूबा’ इल्ला ‘अन्ता, फ़गफ़िर ली मगफ़िरतम मिन’ इन्दिका वरहम्नी ‘इन्नका’ अन्तल-गफूरुर्रहीम।


दुआ मासुरा अरबी में

اللّٰهُمَّ إِنِّيْ ظَلَمْتُ نَفْسِيْ ظُلْمْاً كَثِيْراً، وَلاَ يَغْفِرُ الذُّنُوْبَ إِلاَّ أَنْتَ، فَاغْفِرْ لِيْ مَغْفِرَةً مِنْ عِنْدِكَ وَارْحَمْنِي، إِنَّكَ أَنْتَ الغَفُوْرُ الرَّحِيْمُ


दुआ मसूरा इंग्लिश में

Allahumma Inni Zalamtu Nafsi, Zulman Kaseera, Wala Yaghfiruz-Zunooba Illa Anta Faghfirlee Maghfiratan-mMin ‘Indika War Hamnee Innakaa Antal Ghafoorur Raheemu


दुआ मासुरा की तर्जुमा

दुआ ए मसूरा का हिंदी अर्थ है, कि ” मैंने खुद पर बहुत जुल्म किया है और तेरे अलावा कोई भी मेरे गुनाहों को माफ नहीं कर सकता। या अल्लाह मेरी यह ख्वाहिश है कि तू मुझे बक्श दे और मुझ पर रहम फरमा। तु सब पर रहम करने वाला बड़ा मेहरबान है और अपना रहम हम पर भी अदा कर “।

यदि हमें दुआ ए मासुरा का अर्थ याद रहता है तो जाहिर सी बात है कि हम सही तरीके से अल्लाह से दुआ ए मासुरा पढ़ सकते हैं।


दुआ मसूरा के फायदे

इस्लाम धर्म में सभी कार्यों को करने के लिए अलग-अलग दुआएं हैं और उन सभी दुआओं का अलग-अलग तजुर्बा भी है। इसके अलावा उन दुआओं का अलग-अलग फायदा भी है। और दुआ ए मासुरा के भी कुछ फायदे हैं जो कि इस प्रकार हैं -:

  • दुआ ए मसूरा के द्वारा अल्लाह से हम अपने गुनाहों के लिए माफी मांगते हैं और अपने गुनाहों की अर्जी अल्लाह के पास लगाते हैं।
  • दुआ ए मासुरा पढ़ने से हम अपने हर दिन की गलतियों की क्षमा मांगते हैं और अल्लाह हमें इसके लिए माफ कर देते हैं।
  • दुआ ई मसुरा पढ़ने से घर में बरकत भी होती है और घर के सभी लोग खुश भी रहते हैं।
  • कई इस्लाम धर्म के लोग यह भी मानते हैं कि दुआ ए मासुरा पढ़ने से उन्हें नई ताजगी भी महसूस होती है और वह हल्का महसूस करते हैं।

For More Info Watch This :


निष्कर्ष :

आज के इस लेख में हमने आपको बताया, कि Dua e Masura In Hindi और कब पढ़ा जाता है ?

उम्मीद है, कि इस लेख के माध्यम से आप Dua e Masura In Hindi के बारे में सही जानकारी प्राप्त कर पाए होंगे। यदि आपको इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न पूछना है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कॉमेंट कर के बता सकते हैं।


FAQ’s :

प्रश्न 1क्या दुआ मासुरा पढ़ना जरूरी है ?

उत्तर - नहीं, यदि आप दुआ ए मासुरा पढ़ना भूल जाते हैं या किसी कारण से नहीं पढ़ पाते हैं तो कोई दिक्कत नहीं होगी। 
आप की नमाज पूरी हो जाएगी।

प्रश्न 2मैं दुआ मासुरा कैसे याद कर सकता हूं ?

उत्तर - इस लेख में हमने आपकी सुविधा के लिए हिंदी, इंग्लिश और अरबी तीनों भाषाओं में दुआ ए मासुरा बताई है,
 इसके माध्यम से आप आसानी से दुआ ए मासुरा याद कर पाएंगे।

Read Also :-

Leave a Reply

Your email address will not be published.